गुरुवार, अप्रैल 22, 2010

खाप पंचायत, सतयुग से कलयुग तक............

"खाप पंचायत" ये नाम तो अब लगभग सभी सुन चुके होंगे ! पिछले कुछ दिनों से ये काफी चर्चा में है और इनके चर्चा में होने का कारण है इनके जारी किये गए अनोखे फरमान, जिन्हें  लोगो द्वारा तुगलकी फरमान कि संज्ञा दी गई !
 खाप पंचायतो का इतिहास बहुत पुराना है और ये  महाभारत काल से लेकर रामायण काल और उसके बाद मुग़ल शासन का सफ़र करते हुए अब  इस इकिस्वी सदी (कलयुग) के समाज में अपने वजूद के साथ आज भी कायम है !
कहा जाता है कि जब "राजा दक्ष के यज्ञ में भगवान् शिव को ना बुलाकर उनका अपमान किया गया तब पार्वती जी ये अपमान सह ना पाई और उन्होंने   यज्ञ  के हवन कुंड कि अग्नि में कूद कर अपने प्राण त्याग दिए थे, जब  शिवजी को ये पता लगा तो बहुत क्रोधित हुए और तब उन्होंने  वीरभद्र को ये आज्ञा दी कि वो अपनी गन सेना के साथ जा कर राजा दक्ष का यज्ञ नष्ट करके उसका सर काट दे" ! खाप पंचायतो कि ये सबसे पुरानी घटना मानी जाती है !
रामायण काल में भी इन खाप पंचायतो का उल्लेख मिलता है, कहा जाता है कि हनुमान जी कि वानर सेना वास्तव में एक सर्व खाप पंचायत ही थी जिसमे भील,कोल,वानर,रीच,जटायु,रघुवंशी आदि विभिन्न जातियों तथा खापो के लोग सम्मिलित थे लेकिन क्योकि इसमें वानर अधिक थे इसलिए इन्हें वानर सेना कहा गया ! इस सेना के अध्यक्षता  महाराजा  सुग्रीव ने कि थी और इनके सलाहकार थे वीर जामवंत !
समय के चक्र के साथ काल बदलते गए युग बदलते गए लेकिन ये खाप पंचायते हर युग में देखने को मिलती रही ! सतयुग से लेकर मुग़ल शासन और उसके बाद  अंग्रेजो  के शासन काल तक इन खाप पंचायतो के वजूद को कोई हिला ना सका ! मुग़ल काल में समाज को एक स्वस्थ वातावरण देने के लिए इन पंचायतो का सहारा लिया जाने लगा क्योकि उस समय हर व्यक्ति से राजा निजी तौर पर मिल कर समस्या हल नहीं कर सकते थे इसलिए ये खाप पंचायते ज़रूरी हो गई ! ये तब एक तरह कि प्रशासन पद्दति के रूप में काम करने लगी और गाँव तथा प्रान्तों के छोटे बड़े फैसले यही पंचायते करने लगी इसके बदले इन्हें राजाओ से ऊँचे ओहदे तथा अन्य भेट मिलने लगी ! इनके द्वारा लिए  गए हर फैसले  को इनके अधीन आने वाले सभी गाँव तथा प्रान्तों को मानना ज़रूरी था !
लेकिन भारत कि आज़ादी के बाद से इन खाप पंचायतो कि ताकतों को देश के राजनीतिज्ञों ने भली भांति भाप लिया ! और तब ये राजनीतिज्ञ इस बात को अच्छी तरह से समझ चुके थे कि पंचो  द्वारा लिया गया कोई भी फैसला गाँव के हर व्यक्ति के लिए किसी पत्थर की लकीर के समान ही था और उस लकीर को मिटाने की हिम्मत किसी में भी ना थी, और यही वजह रही की राजनीतिज्ञों द्वारा इन खाप पंचायतो का इस्तेमाल  अपने वोट बैंक को बढाने के लिए किया जाने लगा और यही से ये खाप पंचायते सियासी रूप लेने लगी जिनका लाभ राजनेताओ ने जम कर उठाया ! और आज इसकी बानगी हमे इनके तुगलकी फरमानों के रूप में देखने को मिल रही है !
आज ये खाप पंचायते हिन्दू मेरिज एक्ट में संशोधन की मांग कर रही है इनकी मांग है की सरकार "एक गोत्र में होने वाली शादियों को अवैध करार दे" क्योकि इनका मानना है की एक गोत्र के सभी लड़के और लडकिया आपस में भाई-बहन होते है फिर चाहे कितनी भी पीढ़िया क्यों ना गुजर गई हो ! अपनी इसी सोच के चलते इन्होने मनोज और बबली हत्याकांड के दोषियों को बचाने के लिए हर घर से दस दस रुपए इक्कठे किये क्योकि मनोज और बबली एक ही गोत्र के थे और इसलिए  इनके अनुसार उनकी हत्या करने वाले दोषी नहीं है बल्कि दोषी मनोज और बबली थे जिन्होंने एक ही गोत्र में शादी की ! लेकिन अगर इनकी एक गोत्र में शादी ना करने की मांग को मान लिया जाता है तो आज जितने लोग इसके समर्थन में है उतने ही शायद इसके विरोध में भी हो क्योकि दक्षिद भारत में ना सिर्फ एक गोत्र में बल्कि एक बहन अपने बेटे के लिए अपने ही भाई की बेटी को दुल्हन के रूप में भी स्वीकार करती है और वहां इसका कोई विरोध नहीं है !
लेकिन आज ये खाप पंचायते राजनेताओ के लिए अपने वोट जुटाने में बहुत मददगार साबित हो रही है जैसा की मैंने पहले भी बताया की इन पंचायतो द्वारा लिया गया कोई भी फैसला इनके अधीन आने वाले सभी गाँवो के लिए मान्य होता है तो उसी का फायदा ये राजनेता उठा रहे है क्योकि इन पांचो का एक फैसला भी तख्ता पलट करने की हिम्मत रखता है ज्यादा दिन नहीं हुए जब 84 गाँवो वाली बालियाँ खाप के प्रमुख महेंद्र सिंह टिकेट ने किसान आन्दोलन चला कर उस वक़्त पूरी सत्ता को हिला कर रख दिया था और यही वो मूल वजह है जिसकी वजह से आज ये पंचायते  आज के इस युग में ये अपना आधिपत्य स्थापित किये हुए है ! आज ये पंचायते अपना समाजिक दायित्व भूल कर सियासी रंग में रंग चुकी है और इनको रोकना मतलब अपनी सत्ता को खोने जैसा है क्योकि इनकी विरोध में जो भी सत्ता कदम उठाएगी वो शायद दोबारा देश में शासन नहीं कर पायेगी !
तो क्या आज का समाज  इनके इन तुगलकी फरमानों को यूही चुपचाप मानता रहे ???? क्योकि जब तक ये नेता इन्हें अपना वोट बैंक मानते रहेंगे तब तक तो इन पंचायतो के फैसलों में कोई परिवर्तन संभव नज़र नहीं आता दिख रहा ! इस लेख पर अन्य लोगो की प्रतिक्रिया जानने के लिए यहाँ क्लीक करे 1http://sonigarg.jagranjunction.com/author/sonigarg/

शुक्रवार, अप्रैल 09, 2010

अपने लड्डू का भाव तुम बताओ ............


बिना कोई भूमिका बांधे आज आप सभी को एक वाकया सुनाती हूँ !
 मेरी एक कजन सिस्टर है जिसकी शादी के लिए  कुछ रिश्ते देखे जा रहे है अर्थार्त कुछ लड़के देखे जा रहे है, अरेंज मेरिज में  पूरा प्रोसेस कैसे चलता  है, ये  तो आप सभी जानते होंगे !  पहले कुंडलिया मिलाई जाती है और वो मिल जाये तो लड़का देखा जाता है और अगर लड़का पसंद आ जाये तो लड़की दिखाई जाती है और दोनों एक दूसरे को पसंद आ जाये तो शहनाई बज जाती है !
अब कल ही की बात है मेरी सिस्टर के लिए उसके पापा और उनका एक दोस्त और एक अन्य रिश्तेदार लड़के को देखने उसके घर गए ! साथ में एक अन्य व्यक्ति भी था जिसका विवरण मैं बाद मे दूंगी ! ये सभी लड़के के घर पहुंचे, सभी को बैठाया गया उनके सामने बढ़िया सा नाश्ता और ठंडा सर्व किया गया !  बातो का सिलसिला शुरू हुआ, लड़की के पिता ने  किसी व्यक्ति का नाम लेकर लड़के के पिता से उनकी जान पहचान के बारे कुछ जानना चाहा तो लड़के के पिता ने जवाब दिया की "भाईसाहब, हमे तो पूरी कालोनी के लोग जानते है अब हम किस-किस का नाम याद रखे !" लड़की के पिता को उनका ये जवाब थोडा पसंद नहीं आया ! अब लड़के की माता जी की बारी आई उन्होंने पूछा की "आपकी लड़की ने किस सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन पूरी की है" लड़की के पिता ने जवाब दे दिया ! तभी अगला सवाल पूछा गया और ये भी माता जी की तरफ से  था " किस मीडियम से पदाई पूरी की है, इंग्लिश या हिंदी और उसकी परसेंटेज क्या थी ?" इस पर लड़की के पिता ने जवाब देने से पहले अपनी एक दुविधा दूर करनी चाही उन्होंने माताजी से पूछा की " पदाई किस मीडियम से की है और मार्क्स क्या है आप,ये  क्यों पूछ रही  है  ?" तो माताजी ने जवाब दिया की " वो क्या है ना की मैंने खुद एम्.ए. किया हुआ है, तो इसलिए अपनी बहूँ भी मैं अच्छी पड़ी लिखी ही चाहती हूँ १" उसके बाद लड़की के पिता ने अपनी लड़की की पदाई का झटपट ब्यौरा दे दिया !
अब बात करते है उस चोथे व्यक्ति की जो इन तीन लोगो के साथ गए थे दरअसल वो इस रिश्ते के "मध्यकार' थे मतलब देसी भाषा में कहे तो 'बिचोलिया" ! जिनका, रिश्ता तय हो जाने पर दो परसेंट कमीशन दोनों तरफ से लेना पहले से तय था ! अब बोलने की बारी इनकी आई इन्होने लड़के के माता-पिता से कहा की "आपको जो भी लेन-देन की बात करनी है वो आमने-सामने कर लो  !"(भई सही भी है जो कुछ भी चाहिए पहले ही बता दो बाद में बेटी को परेशान करने से तो यही बेहतर है !) इस पर लड़की के पिता ने ही पूछा की "हाँ,  आप बताइये  की आप क्या  चाहते है" उनकी इस बात पर लड़के की माताजी ने हँसते हुए कहा  की "ये तो आप बताइए की आप कितना लगायेंगे ?" अब फिर लड़की के पिता ने बोला  की "ये मैं कैसे बताऊँ, ये तो आप ही बताओगे की आप कितना लगवाना चाहते हो"  इस पर लड़के की माताजी ने बहुत ही सटीक जवाब दिया की, " भाईसाहब, लड़के वालो क्या है, उनका  पेट तो कभी भरता ही नहीं, तो हम क्या बताये आप ही बताइए " ( ये वो वाक्य  था जो लगभग हर लड़की वाला लड़के वालो के पीठ पीछे कहता है, लेकिन यहाँ तो माताजी ने बड़े ही सीधे तौर पर कह दिया ! मुझे ये जवाब पसंद आया ! इतना साफ बोलने वाले लोग बहुत कम ही होते है ! ) लेकिन उनका ये जवाब उनके विचारो के बारे में बहुत कुछ ब्यान कर गया !  (उनके इस जवाब ने लड़की के पिता के मस्तिष्क में रिश्ते की नामंजूरी की बहुत गहरी मोहर लगा दी !) और माताजी के प्रश्न के उत्तर में लड़की के पिता ने एक उधारण देते हुए कहा की " मैं मिठाई का व्यपारी हूँ, और अगर कोई मेरी दुकान पर आएगा और मुझसे लड्डू का भाव पूछेगा तो उसका भाव तो मैं ही बताऊंगा ना,  अब ग्राहक तो लड्डू का भाव तय करेगा नहीं" (वैसे मुझे ये उधारण भी बहुत सटीक  लगा, अब सही भी  है लड्डू लेकर तो माता जी बैठी है इसलिए अपने लड्डू का भाव तो उन्हें ही बताना पड़ेगा ! ) तो इस पर माताजी तपाक से बोली " भई, ये सब बिजनिस-विसनिस, ये सोदेबजी  मैं तो जानती नहीं ! (लेकिन,उनकी बातो से ऐसा लग तो नहीं रहा  था !) इस पर  लड़की के पिता बोले "सही कहा आपने इसमें आपकी गलती नहीं है आपके कोई बेटी नहीं है ना इसलिए आप ऐसा कह रही है !" (दरअसल माता जी के सिर्फ चार बेटे है !) अब माता जी फिर बोली "नहीं, ऐसी बात नहीं है, मेरे बेटी नहीं है तो क्या हुआ मेरे जेठ जी के और मेरे घर में कई और रिश्तेदारों के तो बेटिया है  हमने देखी है उनकी शादी !" इस पर लड़की के पिता ने कहा "रिश्तेदारों से मतलब नहीं है आपकी  अपनी कोई बेटी होती तब आपको पता चलता !" ( अब इस तरह की गर्म बहस वहाँ बैठे सभी लोगो को ये बताने के लिए काफी थी की आगाज़ अगर ऐसा है तो अंजाम क्या होगा !) अब मुझे यह बताने की ज़रूरत तो नहीं की इस बातचीत का अंजाम क्या हुआ होगा !
वैसे इन माता जी जैसे ना जाने कितने ही ऐसे लोग है जो रोज़ अपने-अपने लड्दुओ का भाव तय करते होंगे ! वैसे  मेरे घर में भी एक लड्डू है जब मैंने उसकी कीमत जाननी चाही तो मुझे जवाब मिला की हमारा लड्डू बिकाऊ नहीं है, अब इस पर कुछ लोगो का यही कहना होता है की हाँ, सही है जिसके खुद के बेटी होती है सिर्फ वो ही ऐसा सोच पाते है ! शायद ये बात सही भी है, तो इसका मतलब क्या अब हर घर में एक बेटी ज़रूर होनी चाहिए ???  लड़की के पिता ने जो बात कही उससे तो यही लगता है !
लेकिन अब ये बात पूरी तरह से समझ आ गई की लोग लड़की पैदा ना होने की दुआ क्यों करते है, क्योकि यही वो  एक  वजह है जो लडकियों के  जन्म लेने से पहले ही उन्हें मारने के लिए मजबूर करती है यही वो वजह है जो कन्या ब्रूड हत्या में इजाफा कर रही है,  और आज तो ये भ्रम भी पूरी तरह टूट गया की शिक्षित होना, किसी भी कुप्रथा  और रुदिवादी परम्परा को तोड़ने के लिए काफी है क्योकि वो लड़का स्वयं  एक विद्यालय में, एक शिक्षक के पद पर कार्यरत है ! वो बच्चो को तो शायद यही पदाता होगा की दहेज लेना एक जुर्म है, लेकिन वो खुद को इस जुर्म को करने से नहीं रोक पाया !
कब होगा इस कुप्रथा का अंत ??? कब इन दहेज के लोभियों से लडकिया आजाद होंगी, और कब उनका इस संसार में आना किसी के लिए दर्द नहीं होगा ???? आखिर कब होगा ये एक स्वस्थ सपना साकार ???

बुधवार, अप्रैल 07, 2010

नारी का आँचल

हवा में जब उड़ता ये आँचल
दिल किसी का धडकाता ये आँचल

         पायल कि मधुर थिरकन पर
          गीत मधुर गाता ये आँचल

नारी की हर ताल के संग
लहर-लहर लहराता ये आँचल

सुन चूडियो की खनक को
मंत्रमुग्ध होता ये आँचल

देख चेहरे की चमक को
दांतों तले दब जाता ये आँचल

एक बार पिया जो आये सामने
शर्मा कर रह जाता ये आँचल

नारी के उजले सौन्दर्य को
अपने में छिपाता ये आँचल

नारी का बनता पहरेदार हमेशा
उसकी शर्म हया का ये आँचल

भूले से ग़र छूले कोई बुराई
फंदा गले का बनता ये आँचल
                                                      *************

शनिवार, अप्रैल 03, 2010

Bechara salesman

 कुछ लिखना चाह रही थी  समझ नहीं आ रहा था कि क्या लिखू क्योकि चारो तरफ कई दिन एक शोर मचा हुआ है और वो शोर है, सानिया मिर्जा कि शादी को लेकर, मिडिया  से लेकर फेसबुक तक और हिंदी चिटठा जगत से लेकर घर-घर तक चारो तरफ बस यही चर्चा है, खेर अब मैं यहाँ और शोर नहीं करुँगी ! लेकिन हाँ इस शोर के बीच मुझे एक और शोर सुनाई दिया दरअसल मेरे पास एक फोन आया, फोन टाटा इंडिकॉम से था वो सेल्समेन दरअसल एक फोन बेचना चाहता था कोई नया मोबाईल कनेक्शन  था, जिसकी खूबियों के बारे में वो मुझे बताने लगा हालांकि मैं उसे लगातार कह रही थी कि सर मुझे कोई नया कनेक्शन नहीं खरीदना लेकिन वो तो शायद अपना टार्गेट पूरा करने कि जल्दी में था इसलिए रिक्वेस्ट करने लगा कि "मैडम, प्लीज़ ले लीजिये काम आएगा" अब मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ हालाँकि मैं फोन डिस्कनेक्ट कर सकती थी लेकिन मुझे ऐसा करना उस वक़्त बदमिजाजी लगा, खेर मैंने उसे कहा कि "शाम शाम को ६ बजे फोन करना सोच कर बताउंगी" और ऐसा कह कर मैंने फोन रख दिया और अपने कामो में व्यस्त हो गई ! अब जैसा कि होना था वैसा ही हुआ उसका ठीक ६ बजे फोन आ गया (लेकिन मुझे इस बात कि उम्मीद नहीं थी ) और वो फिर से शुरू हो गया "मैडम, क्या सोचा आपने, आप फोन ले रही है" बेचारे ने इतनी उम्मीद से पूछा कि एक बार सोचा कि चलो ले लू लेकिन चूँकि   मुझे किसी नए कनेक्शन कि ज़रूरत थी नहीं इसलिए इस बार मैंने उसे बिलकुल साफ़ तौर पर कह दिया कि "सर, मुझे कोई फोन नहीं लेना और आप भी कृपया अब फोन रखे" लेकिन वो तो शायद कसम खा कर निकला था कि आज वो मुझे फोन बेच कर ही रहेगा अचानक बोला "मैडम, ले लीजिये"  तब मैंने बोला ठीक है सर ले तो लू पर इसका बिल कौन भरेगा" वो बोला "मैडम,  मैं भर दूंगा"  हे ?????......."सर, क्या बात है आपकी सेलरी बढ गई है क्या" मैंने पूछा, वो बोला "नहीं, मैडम, मुझे अपना टार्गेट पूरा करना है, बस ये आखिरी बचा है और आज ये मुझे बेचना है", इस बार उसकी आवाज़ में थोड़ी परेशानी थी मैंने कहा कि "सर, मुझे वाकई ये फोन नहीं लेना" और इस बार उसने "ठीक है" कह कर फोन रख दिया ! फोन रखते समय उसकी आवाज़ में परेशानी साफ़ झलक रही थी ! शायद उस पर अपना टार्गेट पूरा करने का बहुत दबाव था, लेकिन मैं भी क्या करती, इस बार के बजट ने मेरे ऊपर भी दबाव बना कर रखा था ! लेकिन बाद में जब बेठ कर सोचा तो लगा कि आज जहां हर तरफ नए-नए शोर मचे है वहाँ उस बेचारे को बस अपना टार्गेट पूरा करना है !  वैसे हम में से ऐसे कितने लोग है जो इन सेल्समेनो कि बात ध्यान से सुनते है शायद बहुत कम, मैं भी नहीं सुनती, आखिर कब तक सुने ये बोलते ही इतना है ! घर पर भी ना जाने कितने ही सेल्समेन रोज़ बेल बजाते है, किसी को सर्फ़ बेचना है, किसी तो तेल, किसी को शेम्पू, किसी को साबुन, किसी को वाटर प्यूरीफायर, किसी को चूहे मारने कि दवा, किसी को ना जाने क्या-क्या उफ़ !!!!!!!! सच बहुत परेशान करते है ये, कई  बार तो लोग इनकी सुने बिना ही इनके मुहँ पर दरवाज़ा बंद कर देते है, हाय, कैसा लगता होगा इन बेचारो को ! एक बार खुद को इनकी जगह रख कर देखा तो महसूस हुआ कि वास्तव में इनको कितना बुरा लगता होगा लेकिन वो ये किसी भी कस्टमर को महसूस नहीं  होने देते ! अब  इनके ऊपर अपने सिनिअर का इतना दबाव होता है कि उस दबाव में आकर ये बेचारे किसी कि बात का बुरा भी नहीं मानते फिर भले ही आप इन्हें गालिया ही क्यों ना दो ! लेकिन मुझे समझ नहीं आता कि वो ऐसी नौकरी करते ही क्यों है???  तब मुझे अपने कॉलेज का एक वाकया याद आ गया ! मेरी एक दोस्त थी वो एक कॉल सेंटर में काम करती थी वो बताती थी कि अक्सर कई बार कस्टमर ऐसी भाषा का प्रयोग करते है कि अगर हमे अपनी नौकरी खो जाने का डर ना हो तो हम उन्हें उन्ही कि भाषा में जवाब दे दे ! लेकिन ऐसा हो नहीं सकता ! तब मैंने उससे पूछा था कि तू ऐसी  नौकरी कर ही क्यों  रही है, जवाब मिला " अभी मेरे पास इतनी डिग्री नहीं कि कोई और अच्छी नौकरी कर संकू और जब तक कोई अच्छी नौकरी नहीं मिलती तब तक यही सही " ,"तो  मतलब तू ये नौकरी मजबूरी में कर रही है?" , तो उसने कहा "और नहीं तो क्या,  मज़बूरी ही तो है वरना कौन ये सेल्समेन कि नौकरी अपनी खुशी से करता है"  उसकी ये बात आज मुझे अचानक याद आ गई, और तब मुझे समझ आया कि उस बेचारे कि क्या  मजबूरी रही होगी,और उस पर कितना दबाव होगा  वरना वो मेरी इतनी सुनता ही क्यूँ ???
खेर,ये दबाव होता ही ऐसा है इस दबाव में आ कर लोग मज़बूरी में वो काम भी कर जाते है जो वो वास्तव में करना नहीं चाहते अब देखिये अभी-अभी खबर आई कि "आयशा सिद्दगी" के दबाव के चलते सानिया मिर्जा के परिवारवालों ने 'सानिया" और "शोहेब" का निकाह दुबई में करने का फैसला किया है !!!!!!! अब क्या बोलू फिर से ये शोर सुनाई देने लगा !!!!!!