मंगलवार, अप्रैल 09, 2019

चाय से धोखा

चाय ना हुई, मुआ इश्क़ हो गया,
जब पकती है तो बस इश्क़ सी पकती है
और जब महकती है तो इश्क़ सी ही महकती है
ये चाय,इश्क़ सी ही तो है
ठीक इश्क़ की ही तरह धीरे धीरे उबलती है
और जितनी उबलती है,उतनी ही गहरी होती है
बिल्कुल गहरे लाल सुर्ख इश्क़ की तरह
जैसे चाय में डूबे इलायची,अदरक
चाय का स्वाद बढ़ाते है,वैसे
इश्क़ में डूबे दो प्रेमी,
इश्क़ का स्वाद बढ़ाते है 
लेकिन वो कहते है ना बड़े बुजुर्ग  
ये आजकल का इश्क़ ना हुआ पानी का बुलबुला हो गया 
जितनी जल्दी बना उतनी जल्दी फुस्स 
 वैसे ही है, चाय के नए इश्कबाज़ 
जितनी जल्दी सर्दियों में चाय से इश्क हुआ 
उतनी जल्दी गर्मियों में ये चाय वाला इश्क फुस्स !!!
मतलब ये चाय का इश्क़ भी आजकल का इश्क़ हो गया !
जितना जल्दी इश्क़ उतना जल्दी धोखा !!

#चाय #इश्क़ #गर्मियाँ #धोखा 

शुक्रवार, जनवरी 04, 2019

क्यों पैदा किया

मेरे घर से कुछ दूरी पर एक तीनमंजिला मकान बना हुआ हैं जिसमे एक-एक मंज़िल पर कई कई किरायदार रहते है उनमे से ही एक परिवार ऐसा है जिसमे आठ सदस्य है ! माता पिता,चार बेटियां और दो बेटे ! बेटियां बड़ी हैं और दोनों बेटे छोटे ! अक्सर इनमे से सबसे छोटा बेटा जिसकी उम्र तकरीबन आठ या नौ वर्ष की होगी वो अक्सर हमारे घर खेलने आ जाया करता है पहले आने में हिचकिचाता था लेकिन धीरे धीरे वो खुल गया और मेरे बेटे को भी (जिसकी उम्र दो वर्ष है ) उसके साथ खेलना अच्छा लगने लगा ! अब दोनों शाम को अक्सर साथ खेला करते हैं ! मैं भी अक्सर उनके खेल में शामिल हो जाया करती हूँ इसी दौरान मैं उससे कुछ बातें भी कर लिया करती हूँ और बातों बातों में ही पता चला कि वो आठ सदस्यो का परिवार किस तरह रहता है! हुआ यूँ कि एक दिन जब खेलते खेलते बाहर अन्धेरा नज़र आया तब मेरी नज़र घडी पर गयी देखा तो नौ बज चुके थे, मैंने फ़ौरन उसे उसके घर जाने को कहा, "कहा कि बहुत देर हो गयी है अब तुम अपने घर जाओ तुम्हारी मम्मी चिंता कर रही होंगी " "इस पर वो हँसते हुए बोला कि नहीं मेरी मम्मी कुछ नही कहती" मुझे सुन कर हैरानी हुई ! मैंने फिर पूछा क्यों, तुम्हे देर से जाने पर डाँट नहीं पड़ती ?वो बोला "नहीं बल्कि उसकी मम्मी तो सो चुकी होंगी !" ये बात सुन कर हैरानी और बढ़ गयी सोचने लगी कि कैसी माँ है बच्चा घर से बाहर खेल रहा है और वो सो भी गयी !लेकिन उसके बाद जब मैंने उससे इस सब कि वजह पूछी तो जो बात सामने आयी उससे बड़ी हैरानी भी हुई और तरस भी आया !
असल में उस बच्चे की माँ घरो में झाड़ू पौछे का काम किया करती है और उसके पिता बेलदारी का काम करते है लेकिन फिलहाल वो घर में ही रहते है और उस बच्चे के कहे अनुसार उसके पिता रोज़ शराब पी कर घर में झगड़ा करते है और उस बच्चे को भी अक्सर मारा पीटा करते है जिस वजह से वो बच्चा अक्सर देर रात को ही अपने घर जाना पसंद करता है ! उसके बाद उसने बताया कि उसकी मम्मी रोज़ सुबह घर के सभी सदस्यो के लिए खाना बना कर और बाकी काम ख़त्म करके तक़रीबन छह बजे काम के लिए निकल जाया करती है और साथ उसकी बहने भी घरो में काम करने जाती है ! सबसे बड़ी बहन के बारे में उसने बताया कि उसकी शादी हो चुकी है और वो भी घरो में काम किया करती है और एक बहन किसी के घर में रहती है और वही रेह कर काम करती है !फिर मैंने पूछा और तुम दोनों भाई क्या करते हो तो वो तपाक से बोला मेरा भाई मोबाईल की दूकान पर काम करता है (जिसकी उम्र उसे पता नहीं बस इतना पता है कि वो आठवी क्लास में पढता है) और उसे पाँचसौ रुपए महीना मिलता है, और मैं यहाँ आ जाता हूँ ! ये सब सुन कर सच में एक बार तो बड़ा गुस्सा आया कि कैसे माँ बाप है जो अपने बच्चो से इतनी छोटी उम्र में काम करवा रहे है और जिन्हे अपने बच्चो की बिलकुल फ़िक्र ही नहीं कि वो सारा दिन कैसे रहते है कहाँ जाते है क्या करते है ?
अक्सर जब किसी बच्चे को इस तरह के हालात में देखती हूँ तो यही एक सवाल मन में उठता है कि आखिर क्यूँ इसके माँ बाप ने इसे पैदा किया जब वो इसे सही ढंग से पाल ही नहीं सकते तो क्यूँ इस बेचारे की ज़िंदगी इतनी बत्तर बना दी ? ये सवाल मैं अक्सर जब किसी माता पिता से पूछती थी तो जवाब मिलता था "अरे बेटा ये किसी के हाथ में नहीं होता ऊपरवाले ने इनकी किस्मत में यही लिखा है तो कोई क्या करें, कौन से माँ बाप चाहते है कि उनका बच्चा भूखा रहे और पढ़ लिख न सके !" उनकी इस बात पर मैं अक्सर यही सोचती अरे किस्मत उपरवाले ने लिखी है लेकिन किस्मत लिखवाने के लिए ऊपरवाले के पास पैदा करके तो माँ बाप ने ही भेजा है !लेकिन इस सबके बीच एक और बात भी सामने आती और वो ये कि बहुत से लोग सिर्फ एक लड़के के माता पिता कहलाने के चक्कर में इतने बच्चे पैदा कर लिया करते है ! अगर इस बात पर गौर करा जाए तो जिस परिवार का ज़िक्र मैंने किया है उसमे भी चारो बेटियां बड़ी ही है और बेटे छोटे, तो ये माना जा सकता है कि शायद उस माँ ने भी एक अदद बेटे की चाह में इतने बच्चो को जन्म दिया हो !
उफ्फ्फ !! मतलब फिर वही सब, घर में एक बेटा होना चाहिए बड़ा होकर जो माँ बाप का सहारा बनेगा कुल का नाम आगे बढ़ाएगा वगैरह वगैहरा !! अब बेटा होना चाहिए या नहीं होना चाहिए मैं इस विषय पर बात नहीं करना चाहती, हाँ लेकिन मैं एक सवाल उन सभी माता पिता से ज़रूर पूछना चाहूंगी जिन्होंने बेटे कि चाह में कई बच्चे पैदा किये है, क्या वो अपने सभी बच्चो को भरपूर पालन पोषण कर रहे है ?? इसे कुछ यूँ समझते है अभी मैंने ऊपर जिस लड़के की बात की मैं यहाँ भी उसी का उधाहरण देते हुए कहूँगी मैं जब भी उससे कुछ खाने के लिए पूछती तो वो झट से हाँ कह देता और जो भी मैं उसे देती वो बिना स्वाद लिए झट से खा लेता है धीरे धीरे वो रात का खाना भी मेरे बेटे के साथ ही खा कर जाने लगा और मैं भी बड़े शौक से दोनों को खाना खिला देती लेकिन धीरे धीरे मुझे अहसास हुआ कि वो खाना खाने के बाद फ़ौरन ही अपने घर चला जाता था लगा जैसे वो सिर्फ खाना बनने के इंतज़ार में है इतिफाक कि बात है कि अगले ही दिन मुझे खाना बनाने में थोड़ी देर हो गयी और मेरा बेटा भी दूध पी कर सो चुका था तो बचपन मैंने भी उसे जाने के लिए कह दिया लेकिन उस दिन उसका जाने का मन नहीं हुआ असल में वो खाने के इंतज़ार में था तभी मैंने उससे पूछा कि तुम्हारी मम्मी ने क्या बनाया है उसने कहा "पानी वाले आलू" और साथ में ये भी कहा कि उसे वो अच्छे नहीं लगते ! मैंने कहा ठीक है थोड़ी देर रुको फिर यहीं खाना खा जाना और उस दिन के बाद से वो अक्सर रात का खाना मेरे घर पर ही खा कर जाने लगा इस दौरान मैंन जब भी उससे पूछा कि तुम्हारे घर पर क्या बना है तो उसके जवाब में अक्सर पानी वाले आलू ही हुआ करते थे ! अब कोई ये समझाए कि प्रतिदिन आलू कि सब्ज़ी और रोटी खिला देने भर को सम्पूर्ण पोषण कहा जा सकता है ?
अब तक मैंने एक ख़ास वर्ग कि ही बात की लेकिन ये बात सभी पर लागू होती जब हम अपनी कमाई से इतने बच्चो का पालन नहीं कर सकते इन्हे भरपेट भोजन नहीं से सकते, इन्हे अच्छी शिक्षा नहीं दे सकते, तो क्यों इन्हे पैदा करते है ?? क्यों इन्हे बचपन में ही कमाई करने के लिए मजबूर कर देते है ?? क्यों इनका बचपन नरक बना देते है ?? जिस बेटे के लिए इतने बच्चे पैदा किये जाते है क्या उस बेटे की ही आधारभूत ज़रूरत पूरी हो पाती है ??और जिस बेटे को पाने के चक्कर में इतने बच्चे पैदा किये क्या उनकी ज़रूरते हम पूरी कर पाते है ?? क्यों हम अपने ही बच्चो को पिछड़ा और पिछड़ा बनाते चले जाते है, क्यों हम इस सोच से ऊपर नहीं उठ पाते कि बच्चा चाहे जो भी हो लड़का या लड़की हमे उसे हर स्तर पर आगे बढ़ाना है उसकी आधारभूत ज़रुरतो को पूरा करना है !! क्यों हम ना चाहते हुए भी, या सिर्फ एक लड़के की चाह में एक के बाद एक बच्चे पैदा करते जाते है ? क्यों ??

गुरुवार, दिसंबर 14, 2017

पहले मेरे बच्चे बाद में कुछ और ........!!!!

पिछले कई दिनों से मेरे घर मे छोटी छोटी चुहिया आ गयी है पहले पहल जब ये आयी थी तब इनकी संख्या एक या दो थी माने अल्पसंख्यक ही थी तो मुझे कोई परेशानी भी नही थी इधर उधर घूमती रहती, यहाँ वहाँ से कुछ भी खा लिया और सारे घर मे खेलती रहती ! मेरा छोटा बेटा इनको देख कर तब बड़ा खुश होता था उसके लिए तो ये चलता फिरता खिलौना थी ! उस वक़्त मैंने भी इनके निवारण के लिए कुछ नहीं किया क्योंकि इनसे कोई परेशानी थी ही नही और वैसे ये भी एक जीव ही है तो क्या हुआ अगर ये मेरे घर मे आ कर रह रही है सभी को जीने का अधिकार है तो मैं क्यों इनसे इनका ये अधिकार छिनू !
दिन बीते हफ़्ते बीते और फिर एक दिन मैंने गौर किया कि अचानक इनकी संख्या बढ़ गयी है अब ये 2-4 की संख्या में नहीं थी पहले वाली चुहिया शायद मेरी शराफत का फायदा उठा कर बाहर से औरो को भी ले आयी थी और अब ये अल्पसंख्यक नहीं थी अब ये धीरे-धीरे बहुसंख्यक में बदल रही थी ! अब इनकी इस बढ़ती संख्या ने धीरे-धीरे मेरे घर की चीज़ों को नुकसान पहुँचना शुरू कर दिया ! इन्होंने सबसे पहले मेरे रसोई में रखी खाने की चीज़ों पर हमला किया आये दिन कभी सब्जियां बर्बाद की तो कभी बच्चों के खाने के लिए रखे बिस्कुट,ब्रेड और नमकीन ! अब मेरा छोटा बेटा भी जो इन्हें पहले देख कर खुश होता था बल्कि इनके आगे पीछे भागता था अब वो भी इनसे डरने लगा और इनके सामने आते ही रोने लगता ! अब जब इनका आतंक बढ़ने लगा तो मुझे भी इनका निवारण करना ज़रूरी लगा तो मैंने घर मे चूहेदानी लगा दी जिसके कांटे में मैंने पनीर का टुकड़ा फँसाया लेकिन ये बड़ी समझदार निकली ये बिना किसी आहट के आती और पनीर लेकर भाग जाती ! मतलब पनीर भी जाता और उसको खाकर ये तंदुरुस्त भी होती और दिन प्रतिदिन इनकी सँख्या बढ़ती गई वो अलग ! और इसके मेरे घर में की जाने वाली इनकी मनमर्जी के तो कहने ही क्या !!
कई दिन तक यूँही चलता रहा,घर मे भी इनकी तेज गंध फैलने लगी साथ ही साथ इनसे होने वाली बीमारियों का डर भी सताने लगा, लेकिन जब देखा कि बहुत कोशिशों के बाद भी ना ही ये पकड़ में आ रही और ना ही इनके बढ़ते आतंक में कोई कमी आ रही तो तब मैंने इनको पकड़ने के लिए स्टिकी कार्ड का इस्तेमाल करना ठीक समझा, वो कार्ड जिस पर आते ही चुहिया वही उस कार्ड पर चिपक जाती है और मरने तक तड़पती रहती है हालांकि ये उपाय बड़ा ही क्रूर और बर्बर था क्योंकि इसमें इनकी मौत तड़प-तड़प कर होनी थी, लेकिन जब इन चुहियों के आतंक से मेरे घर के सामान पर और मेरे बच्चों पर इनका प्रतिकूल असर पड़ने लगा तो मुझे यही सही लगा और मैंने रात को कार्ड लगा दिया सुबह उठ कर देखा तो उस पर एक चुहिया चिपकी हुई थी जो शायद तड़प तड़प कर मर चुकी थी जिसका मुझे बड़ा दुःख भी हुआ और खुद पर गुस्सा भी आया कि उसे ऐसे क्यों मारा लेकिन फिर सोचा अगर ये शांति से रह लेती तो शायद इसके साथ ये ना होता लेकिन नहीं ये तो मेरे घर रहकर मुझे ही सताने लगी थी बस यही वजह थी जो मुझे ये कड़ा कदम उठाना पड़ा ! खैर मैंने वो कार्ड उठा कर फेंक दिया और अपने काम मे लग गयी !
इस एक घटना के बाद मैंने नोटिस किया कि सारी चुहियाँ अचानक से गायब हो गई, जैसे सभी ने एकसाथ ही मेरे घर से पलायन कर दिया हो, मै ये देख कर बड़ी ख़ुश हुई मुझे लगा वाह चलो एक चुहिया की मौत बाकियों को काफ़ी कुछ सीखा गयी, लेकिन मेरी ये खुशफहमी ज्यादा देर ना रही !
अभी कल ही की बात है जब मैं घर के परदे बदल रही थी तो अचानक ही एक चुहिया पर्दो में लटकी हुयी दिखी जो वहाँ हवा में लटके हुए करतब दिखा रही थी और  उसे देख मैं बहुत डर गई और अब मुझे खुद पर गुस्सा आने लगा कि क्यों मैंने ये यकीन कर लिया कि अब ये मेरे घर को नुक्सान नहीं पहुंचाएंगी ??? क्यों  ये मान लिया कि एक चुहिया की मौत से मुझे बाकी सबसे निजात मिल गया ??? ये मेरी सच में बहुत बड़ी भूल थी, खैर अब इनसे छुटकारा पाने के लिए  मुझे इनका कुछ पक्का इलाज करना होगा वरना ये यूँही गाहे बगाहे नुक्सान पहुंचाती रहेंगी और वैसे भी जब बात मेरे बच्चों के स्वस्थ जीवन की है तो उसके लिए थोड़ा सा क्रूर बनना शायद ग़लत नहीं होगा !
और यही हालात आजकल कुछ धर्म और समुदाय विशेष के भी है जिनका इलाज बहुत  जरुरी हो गया है ! खैर अब और क्या कहूँ इस बारे में क्यूँकि यहाँ समझदार भी सभी है और ज्ञानी भी !!

सोमवार, दिसंबर 11, 2017

जिंदगी की राजनीति !

1.बीती गर्मियों की बात है मेरे छोटे बेटे को बीमारी की वजह से एक प्राइवेट हॉस्पिटल में 10 दिन के लिए एडमिट होना पड़ा था जिसमे से 3 दिन वो आईसीयू में रहा था ! जब 10 दिन बाद सुबह उसे डिस्चार्ज किया तो हॉस्पिटल ने बिल दिया 78 हज़ार का, बिल 78 हज़ार का इसलिए था क्योंकि बेटे का मेडिक्लेम करवाया हुआ था ! हॉस्पिटल ने बिल मेडिक्लेम कम्पनी में
भेजा और हमें कहा आप एजेंट को बता दीजिए ताकि वो जल्द इसे पास करवाये और फिर आपको डिस्चार्ज मिल जाएगा !
हमने एजेंट से बात की उन्होंने थोड़ी देर बाद बताया कि कंपनी ने क्वेरी डाली है कि हॉस्पिटल ने लूज मोशन जैसी बीमारी में इतने लंबे टाइम के लिए पेशेंट को क्यों रखा और आईसीयू से डिस्चार्ज होने के बाद भी 5 दिन हॉस्पिटल में रोके रखने की क्या जरूरत थी ??? खैर, हॉस्पिटल ने दोबारा दूसरा बिल तैयार किया और भेजा अब बिल गया 73 हज़ार का , मेडिकल कंपनी ने ये भी पास नही  किया उसने नई क्वेरी लगाई की हॉस्पिटल ने जो टैस्ट करवाये है उनकी जरूरत क्यों पड़ी और इसका जवाब उन्होंने सीनियर डॉक्टर्स से लिखित में माँगा उसके बाद तीसरी बार बिल गया 70 हज़ार का जिसे मेडिकल कंपनी ने फाइनली 68 हज़ार का पास किया !
अब हॉस्पीटल वालों ने हमे 4 हज़ार का बिल अलग से दिया और बोले ये आपको भरना पड़ेगा क्योंकि आईसीयू में जो अक्यूपमेंट्स इस्तेमाल हुए है वो मेडिकल के अंडर नहीं आते इसलिए ये बिल आप भरो हमने एजेंट को पूछा उन्होंने कहा हाँ होता तो लेकिन इतनी देर से जब बिल जा रहे थे ये तब क्यों नहीं बोले ?? बिल पास होने में सुबह से रात हो चुकी थी तो हमने भी ज्यादा बहस ना करके 4 हज़ार भर दिए !
TPA पेपर्स साइन करने के लिए जब मैं गयी तब मैंने वहाँ बैठी लेडी से पूछा मैडम अगर यही बिल आप कैश में देते तो बिल कितने का होता पहले तो उसने मुस्कुरा कर टाल दिया फिर जब मैंने दोबारा पूछा तो बोली मैडम अगर ये बिल कैश पेमेंट से होता तो ये डेढ़ लाख से ऊपर जाता !
अब दूसरी कहानी
2. मेरे परिवार की ही एक लेडी जिन्हें कुछ साल पहले रसोली हो गयी थी और जिसका उन्होंने एक प्राइवेट हॉस्पिटल में ऑपरेशन करवाया जिसमें ऑपरेशन के बाद उनका यूटरस निकाल दिया गया अब ऑपरेशन के तकरीबन एक साल बाद उन्हें फिर से दर्द शुरू हुआ उन्होंने उसी गायनोक्लोजिस्ट को दोबारा दिखाया डॉक्टर ने कुछ दिन ट्रीटमेंट किया जब फर्क नही पड़ा तो उन्हें अल्ट्रासाउंड कराने को बोला तो उस लेडी ने एक प्राइवेट हॉस्पिटल में अल्ट्रासाउंड करवाया जिसकी रिपार्ट  उन्हें शाम को मिली जब रिपोर्ट लेजाकर उन्होंने गायनोक्लोजिस्ट को दिखाई तो डॉक्टर हैरान , डॉक्टर ने खुद उसी समय हॉस्पिटल में फ़ोन करके पूछा कि रिपोर्ट किसकी दी  है हॉस्पिटल स्टाफ ने कन्फर्म किया कि रिपोर्ट उन्ही लेडी की है ! दरअसल रिपोर्ट में ये था कि लेडी को दर्द यूटरस में सूजन की वजह से हो रहा है जबकि यूटरस तो था ही नही ! लेडी ने कंज्यूमर कोर्ट में केस फाइल किया हुआ है और ये केस फाइल होने के बाद हॉस्पिटल ने उस लेडी को केस वापस लेने के लिए एक अच्छा खासा अमाउंट आफर किया  जो उन्होंने लेने से मना कर दिया केस 1 साल से कंज्यूमर कोर्ट में है !
अब तीसरी कहानी
3. 2 साल पहले मेरे जेठ यानी मेरे पति के बड़े भाई को अचानक पीठ और कंधों में दर्द शुरू होने लगा उन्होंने पेन रिलीफ जेल लगा लिया है और शॉप पर ही काम करने वाले लड़के से ही अपने कंधे दबवाने लगे लेकिन उन्हें आराम नही  मिला और वो घर आ कर लेट गए जब काफी देर बाद भी कोई आराम नहीं मिला और उन्हें बेचैनी और सांस लेने में दिक्कत होने लगी तो उन्हें पास ही के प्राइवेट हॉस्पिटल में ले गए जहाँ ड्यूटी डॉक्टर्स ने चेक करने के बाद पेन रिलीफ इंजेक्शन लगा दिए और कहा कि थोड़ी देर बाद आराम आ जायेगा आप इन्हें ले जा सकते है लेकिन उन्हें फिर भी आराम नही आया तो डॉक्टर्स ने एक ट्राई लेते हुए कहा कि आप इनका एक ECG करवा लेना अगर ये ज्यादा परेशान  हो तो तब मेरे फादर इन लॉ ने कहा अगर जरूरत है तो आप ही क्यों नही  कर देते वैसे भी इन्हें अभी तक आराम नही मिल रहा ! डॉक्टर्स ने पापा के कहने पर उनका ECG किया और जब उसकी रिपोर्ट आई तो सबके होश उड़ गए ! दरअसल वो मामूली दर्द नहीं एक मेजर हार्ट अटैक था ! और रिपोर्ट के अनुसार उनके पास बचने के 30% चांस थे ! हर कोशिश की हर कॉन्टेक्ट यूज़ किया लेकिन कोई उन्हें नहीं बचा सका ! आज भी याद है जब उन्हें घर लाया गया तो उनकी बेटियों ने हमसे चिपक कर रोकर रोकर बारबार यही पूछा चाची पापा कहाँ गए चाची पापा को क्या हुआ पापा कुछ बोल क्यों नहीं रहे ! हमारे पास उस वक़्त सिवाय आंसुओ के और कुछ नहीं था !! 😔😔😔
अब बात आती है दिल्ली के शालीमार बाग के  मैक्स हॉस्पिटल की जिसका लाइसेंस सस्पेंड किया गया है तबसे कुछ लोग ऐसे हाय तौबा मचा रहे है कि जैसे हॉस्पिटल ही बन्द हो गया हो ! भई सिर्फ़ नए पेशेंट को एडमिट करना बंद हुआ है जो पहले से एडमिट है उनका इलाज अब भी चल रहा है और वैसे कौन सा ऐसा समझदार होगा जो उस हॉस्पिटल में इलाज कराना चाहेगा जहां जिंदा बच्चे को मरा बता कर उसे पैक करके दे दें !!  एक बार जरा उस बच्चे के माँ बाप से पूछना उन्हें कैसा लगा !!?? वैसे भी  जिस आम जनता की परेशानी की बात आप कर रहे हो वो आम जनता उसका बिल भी नहीं भर पाती !! एक मामूली सी बीमारी का भी ये हॉस्पिटल 2 या 3 दिन का बिल भी 1 लाख से नीचे नहीं बनाते ! इन हॉस्पिटल्स में बिना मेडिक्लेम के जाने के बारे में बन्दा सोचता भी नहीं है और अगर जाना भी पड़े तो भई रिसेप्शन वाले पहले आपसे आपकी हैसियत पूछते है उसके बाद आपको एडमिट करते है !
तो हर चीज़ में अपनी गंदी राजनीति मत घुसेड़ो, ज़रूरी नहीं कि समर्थन और विरोध की राजनीति हर बार ज़रूरी हो ! अगर इस एक फैसले से बाकी हॉस्पिटल्स को भी अक्ल आये तो ये सभी के लिए अच्छा ही होगा !
बाकी जिस पर बीतती है असल दर्द वही जानता है !

बुधवार, अगस्त 16, 2017

उसकी कहानी (अंतिम भाग)

नंदिनी की मौत को लगभग एक महीना बीत चुका था और इस दौरान उसके परिवार में काफी उथल-पुथल मच चुकी थी !
रातों को घर से गायब रहने वाला शशांक, आज गाड़ियां चोरी करने के जुर्म में जेल में था और विवेक भी कुछ अनचाही बीमारियों की वजह से अक्सर बीमार रहने लगा था !  इस सब के चलते पुरषोत्तम अपने काम से वोलेंट्री रिटायरमेंट ले चुका था ! शायद शारीरिक थकान से ज्यादा मानसिक थकान पुरषोत्तम पर हावी होने लगी थी उधर नंदिनी की माँ भी अब लगभग सारा वक़्त या तो अपने कमरे मे बन्द रह कर रोती रहती या फिर पुरषोत्तम की जिद पर उसके साथ कॉलोनी के पार्क में जाकर गुमसुम सी बैठ जाती ! अब दिन बस यूँही बीत रहे थे ! अब कब दिन हुआ कब रात ढली किसी को इससे मतलब ही नहीं था, अब सबकी दुनिया बस वो चारदीवारी ही थी !
पुरषोत्तम आज भी जब-जब नंदिनी को याद करता उसे रह-रह अपनी गलती का अहसास होता , उसने क्यों बात नहीं की नंदिनी से ? वो क्यों उसे उसके हिस्से का समय नहीं दे पाया ? क्यों वो सिर्फ़ उसके सभी खर्चे पूरे करने को ही अपनी जिम्मेदारी समझ बैठा ?????.........एक रात ऐसे ही सवालो में खोए हुए वो फिर से नंदिनी का लिखा वो आख़िरी कागज़ अपनी अलमारी से निकालता है और एक बार फिर उसे पढ़ने बैठ जाता है !!..............
हेलो पापा, कैसे है आप ?
पापा मैं आपकी नंदिनी, आपकी वही छोटी सी गुड़िया जिसे आप बचपन मे अपने कंधों पर बैठा कर घुमाते थे.....और जब आप थक जाते थे तो मैं फिर से रोने लगती थी और आप मुझे फिर से पूरे घर मे घुमाते थे .....और आपको याद है पापा, एक बार मम्मा ने बताया था कि जब आप मेरी उँगली पकड़ कर चलना सीखा रहे थे तब आपसे मेरा हाथ अचानक छूट गया था और मैं गिर गयी थी तब छोटी सी खरोंच आई थी मेरे हाथ और घुटने पर .....थोड़ा सा ख़ून भी निकल गया था.....तब मैं बहुत रोई थी और ये देख कर आप भी रो पड़े थे तब आपको देख कर मम्मा बहुत हँसी थी !!! और फिर उस दिन आप मेरी वजह से ऑफिस भी नहीं गए थे !!
आपको याद है पापा, शशांक और विवेक के आने के बाद जब भी हम तीनों में कभी झगड़ा होता, तो आप हमेशा मेरी ही साइड लेते थे और मम्मा तब बहुत गुस्सा करती थी और शशांक और विवेक भी रो पड़ते थे .....और ये सब देख कर मुझे बड़ा मजा आता था
और हाँ, पापा आपको वो बात याद है जब 9th क्लास में मेरा एक लड़के से झगड़ा हो गया था तब आपने उसे उसके घर जाकर भी डाँट लगाई थी .....और पापा, याद है मैं जब भी शाम को अगर शशांक के साथ कहीं जाती तो आप हमेशा शशांक को  मेरा ध्यान रखने को कहते जबकि मैं हर बार कहती कि ये तो मुझसे छोटा है !!!
लेकिन पापा जब आपने मुझे आगे की पढ़ाई के लिए जिस दिन हॉस्टल भेजा था ना उस दिन मैं आपको याद करके रात भर रोई थी, हालाँकि मैं बड़ी हो चुकी थी लेकिन पापा आप ही कहते थे ना कि बच्चे हमेशा बच्चे होते है और शायद मैं उस वक़्त मैं बड़ी होने की जगह बच्ची बन गयी थी .....पापा मुझे यहाँ हमेशा आपकी याद आती थी क्योंकि यहाँ जब मैं रात में अकेले जागती थी ना तो आप मेरे साथ बातें करने के लिए नहीं होते थे और जब भी मेरा किसी से झगड़ा होता तो आप उसको डाँटने के लिए भी नहीं होते थे .......शायद मुझे आपकी आदत हो चुकी थी और वो आदत जा ही नहीं रही थी .......मैं जब भी आपसे फ़ोन पर बात करने की कोशिश करती आप हमेशा बिज़ी होते थे और मैं फिर अकेली हो जाती ......शायद इसी वजह से मैं नशा करना सीख गई और मुझे याद है जब आपको ये पता लगा था तो आपको बहुत गुस्सा आया था और फिर धीरे -धीरे आपने मुझसे बात करना बंद कर दिया !!!!
फिर बस मम्मा के थ्रु ही बात होती .....पापा मैं वापस आप सबके पास आना चाहती थी मुझे नहीं पढ़ना था आगे !! मैं ये सब भी छोड़ना चाहती थी लेकिन शायद मैं इस नशे के दलदल में फँस चुँकि थी पापा सच में मैंने बहुत कोशिश की इस सबसे बाहर निकलने की लेकिन जब भी मैं ऐसा करती मुझे मैं फिर से अकेली लगती ......हर बार कोशिश करती और हर बार हार जाती लेकिन आज मै थक गई पापा ....अब और कोशिशें नहीं होती इसलिए आज जा रही हूँ आप सबसे दूर ....मुझे माफ़ करना पापा मैं आपकी फ़िर से वो प्यारी बेटी नही बन पाई .......!!!!
आपकी नंदिनी .....

शुक्रवार, जुलाई 28, 2017

उसकी कहानी (भाग-4 )

वो घबराई हुयी सी घर में चिल्लाते हुए पुरषोत्तम को उठाती है !
उठो जल्दी उठो नंदिनी के हॉस्टल से फ़ोन आया है उन्होंने अभी बुलाया है !
क्यों, क्या हुआ ??
(रोते हुए बोली ) नंदिनी हॉस्पिटल में है, उसने स्यूसाइड करने की कोशिश की है !
क्या ???
शोर सुन कर शशांक और विवेक भी अपने कमरे से बाहर आ जाते है ! दोनों को जब पता चलता है तो वो नंदिनी का हाल जान्ने के लिए उसे फ़ोन करते है लेकिन फ़ोन लगातार ऑफ आता है !
कुछ देर बाद ही चारो नंदिनी के हॉस्टल के लिए निकल जाते है ! रास्तेभर नंदिनी की माँ रोते हुए पुरषोत्तम को एक ही बात कहती रही कि आपने नंदिनी से बात क्यों नहीं की, वो कुछ बोलना चाह रही थी........  लेकिन आज पुरषोत्तम के पास इन बातों का कोई जवाब नहीं था ! वो लगातार बस यही सोच रहा था कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो नंदिनी ने स्यूसाइड जैसा रास्ता चुना और क्यों मैंने उससे बात नहीं की ! मैं क्यों थोड़ा सा टाइम नहीं निकाल पाया ??
इसी सब उधेड़बुन में शशांक का फ़ोन बार-बार बजता रहा सभी को लगता कि शयद नंदिनी की कोई खबर हो लेकिन नहीं वो फ़ोन हर बार शशांक के लिए ही होते !!
कुछ घंटो के सफर के बाद वो सभी अब नंदिनी के कॉलेज पहुंच चुके थे और वहाँ से वो कुछ कॉलेज टीचर्स के साथ हॉस्पिटल पहुँच गए !
नंदिनी की माँ लगातार रोये तेओ हुए डॉक्टर से नंदिनी का हाल पूछा डॉक्टर कुछ नहीं बोले !
तभी कुछ पुलिसकर्मी वहाँ आये और उन्होंने पुरषोत्तम से पूछा ....
 क्या आप नंदिनी के फादर है ?
हाँ, मैं ही नंदिनी का फॉदर हूँ कहाँ है नंदिनी कैसी है वो ???
जब आपको फ़ोन किया था तभी नंदिनी को यहाँ लाये थे लेकिन उनकी हालत ठीक नहीं थी
मतलब ??
सर डॉक्टर्स ने काफी कोशिश  की लेकिन सॉरी वो उसे बचा नहीं पाए !
पुरषोत्तम ये सुन वहीँ फर्श पर निढाल हो जाता है वो ना रो पाता है और ना ही कुछ कह पाता है !!
अब शायद उसे भी ये पछतावा है कि वो अपनी बेटी की बात नहीं सुन सका, वो किस परेशानी से गुजर रही थी,
वो क्या चाह रही था, क्यों वो उसे कुछ मिनट नहीं दे पाया ??
तभी वहाँ एक पुलिसकर्मी आता है और पुरषोत्तम के हाथ एक कागज देता है !
ये आपकी बेटी के बैग से मिला था आपके लिए लिखा है !
पुरषोत्तम वो कागज़ खोल कर देखता है  और अपनी जेब में रख लेता है !
......................................................................................................
 to be continued ........



शनिवार, जुलाई 15, 2017

उसकी कहानी (भाग -3 )

शाम 7 बजे
अच्छा विवेक अब मैं जाती हूँ वैसे भी बहुत देर हो गयी !
सोनल, थोड़ी देर और रुको ना वैसे भी मम्मा अभी नहीं आएँगी वो जब भी पार्टी जाती है तो देर से ही आती है !(सोनल, विवेक की ही सोसायटी में रहती है !)
और अंकल ??
अरे यार पापा तो आते ही लेट है !
और शशांक भईया ??
अरे आज वो भी अपने फ्रेंड्स के साथ बाहर गए है पता नहीं कब आएंगे !
ओके, लेकिन मेरी मम्मा आने वाली होंगी ना, इसलिए उनके घर पहुँचने से पहले मुझे जाना होगा !
ओह्ह,,, ठीक है लेकिन नेक्स्ट कब आओगी ???
जब तुम फ्री हो !! (हँसते हुए )
ओके चलो बाय !
सोनल को बाहर तक छोड़ने जाता है फिर वापस आकर दरवाजा बंद करके टीवी के सामने बैठ जाता है ! थोड़ी देर बाद डोर बेल बजती है ! विवेक दरवाजा खोलता है ! सामने उसकी मम्मा थी !
अरे आप आ गए !
हाँ, आज थोड़ा देर तक चली पार्टी ! मेड काम कर गयी ??
नहीं, आयी नहीं आज वो !!
तूने मुझे फोन करके क्यों नहीं बताया ??और शशांक कहाँ है घर में नहीं है वो ??
अरे मैं आज सो गया था और भईया भी आपके जाने के बाद ही चले गए थे !
कहाँ गया वो ??
पता नहीं कुछ फ्रेंड्स आये थे उनके, उन्ही के साथ गए !
ठीक है !! अच्छा सुन आज खाना बाहर से ही आर्डर कर ले सबके लिए , मैं बहुत थक गयी हूँ !!
ठीक है !!
और  शशांक को भी फोन करके पूछ ले कब तक आयेगा ??
ओके मम्मा !!
....................................................
रात करीब 9 बजे......
डोर बेल बजी !
उसने दरवाजा खोला, देखा शशांक खड़ा था
अरे, कहाँ था तू ??
अरे वो दोस्त के घर गया  था कुछ काम था !!
क्या काम था ??
कुछ ख़ास नहीं बस वैसे ही कुछ था !
पता नहीं समझ नहीं आते तेरे काम भी !
अच्छा खाना क्या बना है !
आज बाहर से मंगाया है !!
अरे यार परसो भी बाहर से मंगाया था !! क्या मम्मा, बनाया क्यों नहीं कुछ !!
मैं बस थक गयी थी, आज खा ले कल बना दूंगी !!
इसी बीच पुरुषोत्तम भी आता है और सभी खाना खाकर सो जाते है !
...................................................
रात करीब 2 बजे शशांक का फोन बजता है !
उधर से आवाज आती है
कहाँ है शशांक आया नहीं अभी तक !
हाँ बस 15 मिनट में आ रहा हूँ तू मेरा गेट पर ही वेट कर  !
ठीक है मैं यही खड़ा हूँ तू जल्दी आ !
शशांक चुप-चाप घर के बाहर चला जाता है !!!
.......
अरे यार कितनी देर लगाता है तू !!
हाँ, अब आ गया ना, अच्छा सामान लाया है ना तू !!
हाँ, लाया हूँ अब चल जल्दी कर !
.....................................
शशांक करीब साढ़े तीन बजे घर वापस आता है वो दूसरी चाबी से गेट खोलता है और वापस अपने कमरे में जाकर सो जाता है !
तभी घर का लैंडलाईन फोन बजता है !! शशांक घबरा जाता है !!
फोन शशांक की मम्मा उठाती है ! फोन नंदिनी के हॉस्टल से है !!
नंदिनी के पेरेंट्स को फ़ौरन हॉस्टल में बुलाया गया है !!
to be continued .........